jane Progressive muscles relaxation meditation ko. जानें प्रोग्रेसिव मसल्स रिलैक्सेशन।

मांसपेशियों में तनाव महसूस होना सामान्य बात है। परिणामस्वरूप, मांसपेशियों में अकड़न महसूस हो सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान मांसपेशियों के तनाव को प्रभावी ढंग से समाप्त कर सकता …

मांसपेशियों में तनाव महसूस होना सामान्य बात है। परिणामस्वरूप, मांसपेशियों में अकड़न महसूस हो सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान मांसपेशियों के तनाव को प्रभावी ढंग से समाप्त कर सकता है।

तनाव महसूस होना सामान्य बात है. यदि आपका तनाव बढ़ता है या कुछ समय तक रहता है, तो आपकी मांसपेशियाँ तनावग्रस्त रह सकती हैं। इससे मांसपेशियों में अकड़न भी हो सकती है। मांसपेशियों के तनाव को दूर करने के लिए आप कुछ विशेष चीजें कर सकते हैं। मेडिटेशन के जरिए भी लोग खुद को रिलैक्स कर सकते हैं। एक विशेष विधि प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान है। प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान चिकित्सा का एक रूप है जिसमें एक विशिष्ट पैटर्न में एक समय में एक मांसपेशी समूह को कसना और आराम देना शामिल है।

प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान क्या है?

1920 के दशक में अमेरिकी डॉक्टर एडमंड जैकबसन ने मांसपेशियों को आराम देने के लिए यह विशेष तकनीक बनाई थी। यह एक प्रकार का ध्यान है जो शारीरिक विश्राम को बढ़ावा देता है। जैकबसन को लगता है कि वह इस तरह से तनाव दूर कर सकते हैं। इससे न सिर्फ मांसपेशियों को आराम मिलता है बल्कि दिमाग को भी आराम मिलता है। प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम विश्राम की भावना पर जोर देता है। यदि नियमित रूप से अभ्यास किया जाए तो यह तकनीक शरीर पर तनाव के प्रभाव को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है।

प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान कैसे करें

प्रत्येक क्षेत्र को लगभग 5 सेकंड तक तनाव में रखें। फिर मांसपेशियों को आराम महसूस करें। इस अभ्यास को करते समय वास्तव में प्रत्येक मांसपेशी समूह में तनाव महसूस करना और तनाव बनाए रखना महत्वपूर्ण है। लेकिन इसे ज़्यादा मत करो. इससे आपको तनाव, ऐंठन या दर्द का अनुभव नहीं होना चाहिए।

प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम के शारीरिक लाभ यहां दिए गए हैं (प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान के लाभ)

प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम शरीर को कई लाभ प्रदान कर सकता है।

यह भी पढ़ें

कलाई की अकड़न: कलाई की अकड़न को दूर करने में बेहद कारगर हैं ये 4 योग आसन, ये हैं अभ्यास के तरीके

1 चिंता और तनाव को कम करें (प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान चिंता और तनाव को कम करता है)

प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान चिंता से राहत दिलाने में मदद करता है। जर्नल ऑफ मेंटल हेल्थ के एक अध्ययन में पाया गया कि मौखिक स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों में तनाव और चिंता गायब हो गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि इस तकनीक ने रोगियों में अवसाद के लक्षणों को कम करने में मदद की। यह तनाव, चिंता और गुस्से को कम करने में एक्यूपंक्चर उपचार जितना ही प्रभावी है।

2 नींद में सुधार (अच्छी नींद के लिए प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान)

यह मांसपेशियों को आराम देता है। यह आपको बेहतर नींद पाने में भी मदद कर सकता है। शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्थितियों के कारण उच्च स्तर की चिंता और नींद की खराब गुणवत्ता। एक समूह ने लगातार तीन दिनों तक प्रत्येक दिन 20 से 30 मिनट तक प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान किया। दूसरा समूह सामान्य रूप से रहता था। तीन दिनों के बाद, शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों ने पीएमआर किया, उनकी नींद की गुणवत्ता में सुधार हुआ। इसके अतिरिक्त, पीएमआर समय से पहले जन्मे शिशुओं की माताओं को प्रसव के दौरान बेहतर नींद लेने में मदद कर सकता है।

भ्रामरी प्राणायाम नकारात्मक विचारों के द्वार बंद कर देता है।
प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान भी आपको बेहतर नींद पाने में मदद कर सकता है। छवि स्रोत: एडोब स्टॉक

3 गर्दन के दर्द को कम करें (प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान गर्दन के दर्द को कम करता है)

यदि आपकी गर्दन या कंधों में तनाव है, तो आपको गर्दन में दर्द का अनुभव हो सकता है। यह एक सामान्य स्थिति है जो अक्सर मानसिक और भावनात्मक तनाव से जुड़ी होती है। यह क्रोनिक गर्दन दर्द के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। इससे जीवन की गुणवत्ता और शारीरिक कार्यप्रणाली में भी सुधार हो सकता है।

4 पीठ के निचले हिस्से के दर्द को कम करें (पीठ के निचले हिस्से के दर्द के लिए प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान)

पीठ के निचले हिस्से में दर्द एक और सामान्य स्थिति है। इसके कई कारण हैं, लेकिन तनाव इसे बदतर बना सकता है। ऐसा नियमित रूप से करने से पुराने दर्द से राहत मिल सकती है। इसमें गर्भवती महिलाओं में पीठ दर्द को कम करने की क्षमता होती है।

5 रक्तचाप में सुधार (उच्च रक्तचाप के लिए प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान)

उच्च रक्तचाप या दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। तनाव स्थिति को बदतर बना सकता है, लेकिन यह इसे कम करने में भी मदद कर सकता है।

मांसपेशियाँ शिथिल हो जाती हैं।
प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान माइग्रेन के हमलों की आवृत्ति को कम कर सकता है। छवि स्रोत: एडोब स्टॉक

6 माइग्रेन की आवृत्ति में कमी (प्रगतिशील मांसपेशी विश्राम ध्यान माइग्रेन की आवृत्ति को कम करता है)

माइग्रेन एक तंत्रिका संबंधी विकार है जिसमें चेहरे और सिर में तेज दर्द होता है। माइग्रेन के दौरे तनाव से शुरू हो सकते हैं, जिसमें सामान्य, रोजमर्रा का तनाव भी शामिल है। पीएमआर माइग्रेन के हमलों की आवृत्ति को कम कर सकता है। यह सेरोटोनिन के स्तर को संतुलित करने में मदद करता है। माइग्रेन पीड़ितों में अक्सर इस न्यूरोट्रांसमीटर का स्तर कम होता है।

यह भी पढ़ें:-राम के चरित्र के ये 6 गुण उन्हें जननायक बनाते हैं और इन गुणों को सीखकर आप भी एक नेता बन सकते हैं।

Leave a Comment