jaane electrolyte ki kami hone par nazar aane wale sanket. – जानें इलेक्ट्रोलाइट की कमी होने पर नजर आने वाले संकेत।

जब शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी हो जाती है तो इसका असर व्यक्ति की कार्य क्षमता पर पड़ता है। जानें इलेक्ट्रोलाइट की कमी के लक्षण और इसे कैसे दूर करें। शरीर को ठीक से काम …

जब शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी हो जाती है तो इसका असर व्यक्ति की कार्य क्षमता पर पड़ता है। जानें इलेक्ट्रोलाइट की कमी के लक्षण और इसे कैसे दूर करें।

शरीर को ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त इलेक्ट्रोलाइट्स की आवश्यकता होती है। इलेक्ट्रोलाइट्स रक्त और शरीर के अन्य तरल पदार्थों में मौजूद खनिज होते हैं जो शरीर में विद्युत आवेश ले जाते हैं। शरीर के कई कार्य इन्हीं पर निर्भर करते हैं। उदाहरणों में शरीर में पानी की मात्रा, रक्त पीएच और मांसपेशियों की कार्यप्रणाली शामिल हैं। जब शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी हो जाती है तो इसका असर व्यक्ति की कार्य क्षमता पर पड़ता है। जानें इलेक्ट्रोलाइट की कमी के लक्षण और इसे कैसे दूर करें।


इस दौरान कई लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं, जिसका अर्थ है कि आपके शरीर को इलेक्ट्रोलाइट्स की आवश्यकता है। यदि आप इन्हें नज़रअंदाज़ नहीं करते हैं और अपने इलेक्ट्रोलाइट्स को तुरंत संतुलित करते हैं, तो आपका शरीर फिर से पूरी तरह से सामान्य रूप से कार्य कर सकता है।

आज, हेल्थ शॉट्स के माध्यम से, हम सीखेंगे कि इलेक्ट्रोलाइट की कमी (इलेक्ट्रोलाइट की कमी के लक्षण) होने पर शरीर क्या संकेत भेजता है, और हम यह भी सीखेंगे कि उन संकेतों को फिर से कैसे संतुलित किया जाए। अगर भविष्य में आपके शरीर में इनमें से कोई भी लक्षण विकसित होता है या विकसित होता है तो इसे भूलकर भी नजरअंदाज न करें।

बहुत अधिक पानी से भी मांसपेशियों में दर्द हो सकता है
ओवरहाइड्रेशन के कारण भी मांसपेशियों में दर्द हो सकता है। छवि – शटरस्टॉक

जानिए इलेक्ट्रोलाइट की कमी के लक्षण

1. मांसपेशियों में कमजोरी और ऐंठन

मांसपेशियों को ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट्स की आवश्यकता होती है। यदि आपकी मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, या आप मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव करते हैं, तो यह इलेक्ट्रोलाइट की कमी का संकेत हो सकता है। इस संकेत को नजरअंदाज न करें और इलेक्ट्रोलाइट प्रबंधन पर ध्यान दें।

यह भी पढ़ें

यदि सीढ़ियाँ चढ़ते समय आपके घुटने दर्द करने लगते हैं, तो आपके घुटने के दर्द को बदतर होने से बचाने के लिए यहां 4 उपाय दिए गए हैं।


2. उदास महसूस करना

यदि आप बार-बार मूड में बदलाव का अनुभव करते हैं और बहुत उदास महसूस करते हैं, तो यह इलेक्ट्रोलाइट की कमी का संकेत हो सकता है। शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी के कारण व्यक्ति अधिक संवेदनशील महसूस करता है और जल्दी चिड़चिड़ा हो सकता है। इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन कभी-कभी मस्तिष्क के कार्य को प्रभावित कर सकता है, जिससे मूड में बदलाव, चिड़चिड़ापन और मानसिक भ्रम जैसी स्थितियां पैदा हो सकती हैं। इसलिए अगर ऐसा होता रहे तो इसे नजरअंदाज न करें।

3. पेट की परेशानी

यदि आप बार-बार गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं जैसे गैस, सूजन, पेट में एसिड की अधिकता आदि से पीड़ित हैं, तो यह इलेक्ट्रोलाइट की कमी का संकेत हो सकता है। यदि आपको शारीरिक गतिविधि में भाग लेने के बाद मतली महसूस होती है या पेट से संबंधित समस्याएं हैं, तो आपको इलेक्ट्रोलाइट प्रबंधन पर ध्यान देना शुरू कर देना चाहिए।

माइग्रेन
तेज सिरदर्द की शिकायत होने लगी। छवि: एडोबस्टॉक

4. सिर में अधिक दर्द महसूस होना

यदि आपको बार-बार सिरदर्द होता है, या सिरदर्द शुरू होने के बाद आसानी से दूर नहीं होता है, तो यह इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन का संकेत हो सकता है। सोडियम और पोटेशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी शरीर में द्रव संतुलन को प्रभावित कर सकती है, जो रक्त प्रवाह पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। यह स्थिति सिरदर्द को ट्रिगर कर सकती है।

5.अनियमित हृदय गति

यदि आपके दिल की धड़कन अनियमित है और अचानक बढ़ या घट जाती है, तो यह इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन का संकेत हो सकता है। पोटेशियम, सोडियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम हृदय स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं और वे शरीर में अन्य अंगों के कार्य को भी नियंत्रित करते हैं। ऐसे में इनके असंतुलन से अनियमित दिल की धड़कन और दिल से जुड़ी अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

अब इलेक्ट्रोलाइट संतुलन के लिए कुछ प्रभावी टिप्स जानें

1. पानी में नमक और नींबू का रस मिलाएं

अगर आप इलेक्ट्रोलाइट्स को संतुलित करना चाहते हैं तो आपको सादे पानी में दो चुटकी नमक और आधा नींबू निचोड़कर पीना होगा। यह बिल्कुल नारियल पानी की तरह काम करता है। आप नारियल पानी भी ले सकते हैं क्योंकि इसमें प्राकृतिक रूप से उच्च मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं।

गर्मियों में नींबू पुदीना पिएं
नींबू पुदीना पेय आपको तरोताजा कर देगा। छवि स्रोत: एडोब स्टॉक

2. इलेक्ट्रोलाइट्स को भोजन के माध्यम से अवशोषित किया जा सकता है

आपको अपने दैनिक आहार में पर्याप्त मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करने की आवश्यकता है।

कैल्शियम: आहार में दूध, दही, मांस, मछली, अंडे, गरिष्ठ नाश्ता, बीन्स और कुछ विशेष फल और सब्जियां, जैसे सूखे खुबानी, अंजीर आदि शामिल हैं।

क्लोराइड: जैतून, टमाटर, सलाद पत्ता, अजवाइन आदि क्लोराइड के समृद्ध स्रोत हैं। आप इन्हें अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: शून्य-कैलोरी खाद्य पदार्थ: ये शून्य-कैलोरी खाद्य पदार्थ आपके वजन घटाने की यात्रा को आसान बना सकते हैं, और उनके अन्य लाभों के बारे में जानें

मैगनीशियमकेल, पालक, मूली, अनाज, नट्स, मूंगफली का मक्खन जैसी पत्तेदार सब्जियों के अलावा, सूखे बीन्स और फलियां भी आपके शरीर को पर्याप्त मैग्नीशियम प्रदान कर सकती हैं।

पोटैशियमपके हुए पालक, शकरकंद, दही, केले, एवोकाडो, मटर, ब्रॉड बीन्स, टमाटर, संतरे और किशमिश में पर्याप्त पोटेशियम होता है। आपको इन्हें अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए.

नारियल पानी के फायदे
नारियल पानी विटामिन और खनिजों से भरपूर होता है। छवि स्रोत: एडोब स्टॉक

3. नारियल पानी

नारियल पानी में चीनी की मात्रा बहुत कम होती है, इसलिए रक्त शर्करा का स्तर अचानक नहीं बढ़ेगा। वहीं, इसमें सामान्य पानी की तुलना में अधिक कैलोरी होती है। इसमें प्राकृतिक रूप से इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं और इसलिए इसे एक बहुत प्रभावी इलेक्ट्रोलाइट पेय माना जाता है। यदि इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन हो तो इसका सेवन अवश्य करना चाहिए।


4. तरबूज का रस

हाइड्रेटेड रहने के लिए तरबूज का रस बहुत अच्छा है। साथ ही यह शरीर में इलेक्ट्रोलाइट संतुलन भी बनाए रखता है। इसमें बड़ी मात्रा में पोटेशियम, मैग्नीशियम और विटामिन सी होता है, जो इसे एक बहुत ही खास इलेक्ट्रोलाइट ड्रिंक बनाता है। इसके अतिरिक्त, यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो शरीर को मुक्त कणों से बचाता है।

यह भी पढ़ें: सही प्रोटीन चुनते समय इन 5 बातों पर ध्यान दें

Leave a Comment